मेहनत कर तुझे फल मिलेगा। कर्म पर हिंदी कविता।


Hindi Poem on Karma


Mehnat-par-hindi-kavita

Mehnat par hindi kavita


मेहनत कर तुझे फल मिलेगा

आज नहीं तो कल मिलेगा। 

मंजिल भले ही देर मिलेगी

सुख किन्तु प्रतिपल मिलेगा। 


तू प्यासा और दूर नदी हैं

किन्तु जो संकल्प यदि हैं। 

तो थोड़ा सा धीरज रख

खुद को थोड़ी और परख। 


निश्चित ही शीतल जल मिलेगा। 

आज नहीं तो कल मिलेगा।


कर्म पे अपने आगे बढ़

चिंता न परिणाम की कर। 

लक्ष्य वो तेरा दूर नहीं हैं

तू भी तो मजबूर नहीं हैं। 


निश्चय कर अटल मिलेगा। 

आज नहीं तो कल मिलेगा।


👇 Grab the deal 👇

      


मंजिल को आँखों में भर

हरपल ये महसूस तो कर।

वरमाला वो लिए खड़ी हैं

राह तुम्हारी देख रही हैं। 


बस एक राह पे चल मिलेगा। 

आज नहीं तो कल मिलेगा।


मन के सब संताप मिटा दे

कर्म को अपने यज्ञ बना ले। 

परिश्रम का हवन दिए जा 

निष्ठा से तू कर्म किए जा। 


असम्भव का हल मिलेगा। 

आज नहीं तो कल मिलेगा।


तू मेहनत कर तुझे फल मिलेगा

आज नहीं तो कल मिलेगा। 


**********
***********
(इस कविता का copyright कराया जा चुका है। इस कविता का मकसद आपको प्रेरित करना है। किसी भी व्यायसायिक कार्य में बिना अनुमति के इसका प्रयोग वर्जित है।)

निचे इस कविता का उदेश्य एवं संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा हैं जिसे आपको अवश्य ही पढ़नी चहिये क्योंकि यह प्रेरणा से भरा हुआ एक अति-प्रेरणादायक लेख हैं।

Home         List of all Poems
---------------------------------------------------------------------------

👇 Big discount offer- click for price 👇

     


कविता का उद्देश्य एवं संक्षिप्त विवरण


मेहनत कर तुझे फल मिलेगा

आज नहीं तो कल मिलेगा। 

मंजिल भले ही देर मिलेगी

सुख किन्तु प्रतिपल मिलेगा। 


यह एक अति प्रेरणादायक कविता हैं और यदि सच में आप जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं, अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं और एक संतुष्ट जीवन की कामना रखते हैं तो ऐसी प्रेरणादायक कविता और लेख को जितनी बार हो सके आपको पढ़नी चाहिए। बल्कि आपके दिन की शुरुआत इसी तरह के प्रेरणादायक शब्दों के साथ होनी चाहिए। वास्तव में ऐसी कविताएं,  लेख, कहानी, सफल लोगो की आत्मकथा को आप अपने जीवन के हिस्सा बनाइये और यकीन मानिये ये आपको जीवन में आगे बढ़ने का साहस देंगे, चुनौतियों से लड़ने की हिम्मत और ताकत देंगे, मुश्किल के वक्त में आपको धैर्य रखना सिखाएंगे और सदैव कर्म करते रहने की सच्ची प्रेरणा देंगे।


वास्तव में यदि आप एक सफल जीवन चाहते हैं तो हर वो चीझ जो आपको प्रेरणा देती हैं, आपका धैर्य बढाती हैं, आपको चुनौतियों से लड़ने की साहस और समझ देती हैं उन्हें अपने जीवन का हिस्सा बना लीजिये। इनके बिना आप ये युद्ध नहीं जीत सकते। अभी तक के सभी सफल लोगो के सच्चे दोस्त यहीं हैं। 


ऊपर एक वाक्य कही गई हैं कि "यदि आप संतुष्ट जीवन की कामना रखते हैं" इसका व्याख्या यह हैं कि एक व्यक्ति का जीवन संतुष्ट जीवन तभी बन सकता हैं जब वह वही काम करे जिसे करने में उसे सबसे ज्यादे आनंद आता हैं जैसे एक गायक (सिंगर) को गीत गाने में सबसे ज्यादा आंनद आता हैं तो यदि वह वही काम करे और उसी काम में उपलब्धि हासिल करे तो उसका जीवन एक संतुष्ट जीवन होगा। यदि एक गायक को किसी कम्पनी में कर्मचारी का काम करना पड़े तो वो अपने जीवन से कभी संतुष्ट नहीं रहेगा। और सबसे बड़ी संतुष्टि तो तभी प्राप्त होती हैं जब एक व्यक्ति अपने मनपसंद के काम करते हुए इतना सामर्थ हो कि वह अपनी और अपने परिवार की सारी आवश्यक इक्छाओं को पूरी कर सके। 

👇 Books which can change your life 👇

                           

Click for Buy👆 

अब इस कविता में कही गई बातों को समझते हैं। इस कविता में एक ही बात जोर देकर कही जा रही हैं कि आप कर्म करो, आप ईमानदारी से मेहनत करो आपको इसका फल आज नहीं तो कल अवश्य मिलेगा। भले ही परिणाम आने में थोड़ी देर हो जाये लेकिन कर्म करने का जो आनंद हैं वो आपको हर पल मिलता रहेगा। अब कई लोग ये कहेंगें कि काम करने में क्या आनंद हैं? काम करने का आनंद तो फल प्राप्त के बराबर ही होता हैं बस आपको महसूस करना हैं इसे। आपने कई बार महसूस किया भी होगा कि जिस दिन आप आलस्य करके पूरा का पूरा दिन बर्बाद कर देते हैं तो उस दिन आप कही न कही ग्लानि की भावना से ग्रसित रहते हैं। मन में एक अफसोस और हीन भावना बनी रहती हैं। 


ठीक इसके विपरीत जिस दिन आप अपने निर्धारित कार्य को पूरा कर देते हैं उस दिन आपके मन को एक अतिप्रिय शुकुन और शांति मिलती हैं। आपका मन उत्साह से भरा होता हैं, आपकी आँखों में एक चमक होती हैं और सबसे बड़ी बात हैं कि उस दिन आपका आत्मविश्वास चरम पे होता हैं। इसीलिए कविता में कहाँ गया हैं कि मंजिल भले ही देर मिलेगी, सुख किन्तु प्रतिपल मिलेगा। और ये सुख सफलता प्राप्त करने से कम नहीं होता। 


यह कविता ये संदेश दे रही हैं कि आप परिणाम के चिंता किए बिना अपने कर्म के मार्ग पे आगे बढ़ते रहिये परिणाम निश्चित ही आपके पक्ष में होगा। हमेशा अपने मन में ये बिस्वास रखिये की आप लक्ष्य से दूर नहीं हैं और यही विस्वास आपको हताश और निराश नहीं होने देगा। ये सदैव आपके धैर्य को बनाये रखने में आपका मदद करेगा और याद रखिये किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए धैर्य का होना बहोत जरुरी हैं।

👇 Become a professional You Tuber 👇

      

Click for Price👆

अपनी मंजिल को अपने आँखों में भरिये जैसे कोइ अपने प्रियतमा को भरता हैं। अपने नजरों में उसे भरकर हमेशा उसका दीदार कीजिये। आपकी सफलता जो भले ही अभी हासिल नहीं हुई हैं फिर भी उसका दृश्य हमेशा आपके आँखों के सामने दिखनी चाहिए। आप प्रतिपल ये महसूस कीजिये की आपकी मंजिल कबसे वरमाला लिए आपके इंतजार में खड़ी हैं और आपके पहुंचने की प्रतीक्षा कर रही हैं। आपको भी हर हाल में उसके पास पहुंचना ही होगा। 


अपने मन के सारे संशय मिटा दीजिये और कर्म ऐसे कीजिये जैसे की यज्ञ किया जाता हैं पूरी समर्पण भावना के साथ। और इस यज्ञ में अपने परिश्रम की आहुति देते जाइये। सदैव इसी निष्ठा भाव से कर्म करते हुए आगे बढिये यकीन मानिये जिसे लोग असंभव मानते हैं उसका भी हल निकलेगा और परिणाम इतना चमत्कारी होगा जितना शायद आप अभी कल्पना भी न कर सके। 

उम्मीद करता हूं कि इस प्रेरणादायक कविता से आपको पूरी निष्ठा भाव से अपना काम करने की काफी प्रेरणा मिली होगी। ऐसी ही और प्रेरणादायक कविताएं पढ़ने के लिए आप मेरी वेबसाइट  www.powerfulpoetries.com पर जा सकते है जहां से आप अपने आप को लगातार Motivate कर सकते है।


Thank you for reading this

Hindi Motivational Poem

"This is not only a Hindi Motivational Poem but also a Life Changing Poem."

👇 Big discount on Electronics items👇


          

Click for Buy👆 


Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

हौसला एवं उत्साह बढ़ाने वाली कविता। जज्बे से वक्त को बदलने की हमें आदत है।

हौसला बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता। हार कभी न होती है।

आत्मविश्वास बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरक कविता। है यकीन खुद पे जिन्हें ।

हिम्मत बढ़ाने वाली हिंदी प्रेरक कविता। कश्ती अगर हो छोटी तो।

उत्साह बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता ।दिल में और जीने की अरमान अभी तो बाकी है।

जीवन बदलने वाली हिंदी प्रेरक कविता। मेहनत व्यर्थ न जाती है।