हौसला बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता। हार कभी न होती है।


Hindi Poem for Self Confidence

life changing poem in hindi, hindi motivational poem

हौसला बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता


सुनो पराजय वीरो  को 
स्वीकार कभी न होती है। 
हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

दूर नहीं तुम मंजिल से  
तुम्हे हर पल ये विस्वास रहे 
हो अधीर एक क्षण भी ना
जब तक जीवन मे सांस रहे। 

भंवरो के भय से नईया ये 
पार कभी न होती है। 
 हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।


है ऐसा न वीर कोई जो 
जीवन मे न हारा हो। 
किन्तु सच्चा वीर वही
जो हार को न स्वीकारा हो। 

हार के बिन प्रयासों  मे 
सुधार कभी न होती है। 
हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

👇 Great deal- Click  on Products to check Price 👇

            


संघर्षो की रणभूमि मे 
जिद पे है जो अड़ा हुआ। 
उम्मीद न उसकी मरती है
जो उठकर फिर से खड़ा हुआ। 

याद रहे ये हार तेरी 
हर बार कभी न होती है। 
 हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

**********
***********
(इस कविता का copyright कराया जा चुका है। इस कविता का मकसद आपको प्रेरित करना है। किसी भी व्यायसायिक कार्य में बिना अनुमति के इसका प्रयोग वर्जित है।)

निचे इस कविता का उदेश्य एवं संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा हैं जिसे आपको अवश्य ही पढ़नी चहिये क्योंकि यह प्रेरणा से भरा हुआ एक अति-प्रेरणादायक लेख हैं।

Home         List of all Poems

________________________________________________________________________________

👇 Setup your own office on Big discount👇

       

कविता का उद्देश्य एवं संक्षिप्त विवरण

सुनो पराजय वीरो  को 
स्वीकार कभी न होती है। 
हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

यह कविता हमें यह बताती है कि जो वीर होते है, जो पराक्रमी होते है वो कभी हार स्वीकार नहीं करते और यदि कोई भी व्यक्ति जब तक अपने मन मे हार को स्वीकार न कर ले तब तक वो व्यक्ति हारा हुआ नहीं होता।

यहाँ तक कि कोशिश करते करते यदि मृत्यु  भी हो जाती है तब भी वो व्यक्ति हरा हुआ नहीं कहा जा सकता। किन्तु जिस दिन कोई व्यक्ति ये मान ले कि मै यह कर ही नहीं सकता तो उस दिन उसके आगे बढ़ने के सभी मार्ग बंद हो जाते है, सारी उम्मीदें ख़तम हो जाती है और वह व्यक्ति सच मे हार जाता है।

दूर नहीं तुम मंजिल से  
तुम्हे हर पल ये विस्वास रहे 
हो अधीर एक क्षण भी ना
जब तक जीवन मे सांस रहे। 

तुफानो  के डर से नईया 
पार कभी न होती है। 
 हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

एक व्यक्ति को हमेशा आशावादी होना चाहिए। उसके मन मे हमेशा ये दृढ विस्वास होनी चाहिए कि वह सफलता  के बिलकुल करीब है क्योंकी इससे आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। और जब तक जीवन है तब तक व्यक्ति को अधीर नहीं होना चाहिए, निराश नहीं होना चाहिए।

यदि कोशिश करने से आपको कुछ प्राप्त नहीं होता तो क्या निराश और हताश होकर आप उसे प्राप्त कर सकते है? यदि आपका भी जबाब 'नहीं' है तो फिर आपको आज ही ये  निश्चय करनी चाहिए की आप किसी भी काम मे असफल होने पर निराश नहीं होंगे बल्कि फिर से प्रयत्न करंगे।

👇 Be a professional You Tuber & Vlogger 👇

      

Click on product to check  price👆

एक बात और मै बताना चाहता हुँ कि आप जब भी किसी कार्य को करने जाते है तो आपके दिमाग़ मे एक योजना तो होता ही है। आपके पास एक तैयारी भी होती है। लेकिन जब आप आगे बढ़ते है तो क्या परिस्थिति भी आपकी तैयारी और योजना के अनुकूल ही होती है। जी नहीं परिस्थिति आपके योजना और आपकी तैयारी के ठीक विपरीत होती है।

आपकी सारी योजनाए धरी की धरी रह जाती है और जो वास्तविक अनुभव होता है वो बिलकुल अलग होता है। आपको यहाँ पे परिस्थिति के अनुसार सबकुछ नये सिरे से करना पड़ता है और यही सच्चाई है, जो व्यक्ति इसको स्वीकार कर लेता है वो कभी हताश नहीं होता। 

है ऐसा न वीर कोई जो 
जीवन मे न हारा हो। 
किन्तु सच्चा वीर वही
जो हार न स्वीकारा हो। 

हार के बिन प्रयासों  मे 
सुधार कभी न होती है। 
हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

ये सौ टका सही बात है की कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जो कभी हारता ही न हो अर्थात जो कभी असफल ही नहीं होता है। सफलता की चाह रखने वाला हर व्यक्ति अपने जीवन मे कई बार असफल होता है लेकिन अंततः वही व्यक्ति सफल हो पाता है जो कभी भी हार को स्वीकार नहीं करता। ऐसे ही व्यक्ति सच्चे कर्मयोगी होते है और इन्हे सफल होने से दुनिया की कोई भी ताकत नहीं रोक पाती है।

एक बात और महत्वपूर्ण है कि व्यक्ति असफल होने पर ही अपनी कमियों मे सुधार कर पाता है और जब दूसरी बार प्रयास करता है तो उसके प्रयास मे एक अनुभव भी जुड़ जाता है जो कि उसके प्रयास को और भी असरदार बना देता है।

👇 Grab the hot deal today 👇

   

Click on product for price👆
  
संघर्षो कि रणभूमि मे
जिद पे है जो अड़ा हुआ। 
उम्मीद न उसकी मरती है
जो उठकर फिर से खड़ा हुआ। 

याद रहे ये हार तेरी 
हर बार कभी न होती है। 
 हार गए न 'हार' से तुम 
तो हार कभी न होती है।

यह पंक्ति हमें बताती है कि जो व्यक्ति अपने कार्य पथ पे अडिग रहता है यानि कितनी भी मुश्किल आ जाये उसे फर्क नहीं पड़ता,  जो अपनी जिद पे कायम रहता है तथा जो गिरने के बाद भी उठकर खड़ा होने कि क्षमता रखता है उसकी उम्मीद कभी नहीं मरती और जिसकी उम्मीद जीवित रहती है उसकी जीत निश्चित होती है। 


उम्मीद करता हूं कि इस प्रेरणादायक कविता से आपको काफी प्रेरणा मिली होगी। ऐसी ही और प्रेरणादायक कविताएं पढ़ने के लिए आप मेरी वेबसाइट  www.powerfulpoetries.com पर जा सकते है जहां से आप अपने आप को लगातार Motivate कर सकते है।


Thank you for reading this

Hindi Motivational Poem

"This is not only a Hindi Motivational Poem but also a Life Changing Poem."

👇 Click on product to check the deal price👇




Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

हौसला एवं उत्साह बढ़ाने वाली कविता। जज्बे से वक्त को बदलने की हमें आदत है।

आत्मविश्वास बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरक कविता। है यकीन खुद पे जिन्हें ।

हिम्मत बढ़ाने वाली हिंदी प्रेरक कविता। कश्ती अगर हो छोटी तो।

उत्साह बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता ।दिल में और जीने की अरमान अभी तो बाकी है।

जीवन बदलने वाली हिंदी प्रेरक कविता। मेहनत व्यर्थ न जाती है।