धीरज बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता।। दो पल इंतेज़ार तो करले और ।।


Hindi Inspirational Poem on Patience

Inspirational Poem in Hindi , Hindi Prerak Kavita

 धीरज बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरणादायक कविता


अब तक न हार अपनाया तो
थोड़ी इनकार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

वक्त के जिस उम्मीद में तूने
एक-एक पल बिताया है।
बेखबर हो दुनिया से हर 
अभिलाषा को ठुकराया है 

हालात बदलने वाले है
खुद को बेकरार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

Hindi Motivational Poem , Life Changing Poem in Hindi

 धीरज बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरणादायक कविता


कोई शक नहीं इन राहों पर
कई मुश्किलों को मात दिया।
संघर्षों से लड़ बैठा 
अभ्यास तूने दिन रात किया।

जीत के जश्न मनाने को
खुद को तैयार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

Hindi Prerak Kavita , inspirational poem in hindi

धीरज बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरणादायक कविता



तोड़के जिन बेड़ियों को
ख्यालात बदलने निकला है।
जो दर्द छुपाके सीने में
हालात बदलने निकला है।

अब देर नहीं, बस कुछ पल ही
उस दर्द से प्यार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

ख्वाब जहां आंखो में पलते
हृदय आग जहां रहती।
मंजिल के इन मतवालों से
मंजिल दूर कहां रहती 

बाधाएं है गिनती के अब 
इनको पार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

**********
***********
(इस कविता का copyright कराया जा चुका है। इस कविता का मकसद आपको प्रेरित करना है। किसी भी व्यायसायिक कार्य में बिना अनुमति के इसका प्रयोग वर्जित है।)

निचे इस कविता का उदेश्य एवं संक्षिप्त विवरण दिया जा रहा हैं जिसे आपको अवश्य ही पढ़नी चहिये क्योंकि यह प्रेरणा से भरा हुआ एक अति-प्रेरणादायक लेख हैं।

Home         List of all Poems

*************

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


कविता का उद्देश्य एवं संक्षिप्त विवरण


अब तक न हार अपनाया तो
थोड़ी इनकार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

कई बार हम सफलता की दहलीज पर आकर हार मान जाते है। हमें ये पता ही नहीं होता है कि अगर थोड़ी देर और संयम रख ले तो वर्षों की मेहनत सफल हो जाएगी। 

ये अक्सर तब होता है जब इंसान कई बार असफल हो जाता है। परन्तु यह सत्य है कि हर चोट से पत्थर नहीं टूटता पर क्या हर चोट बेकार है? जबाव है नहीं, हर चोट का अपना एक महत्व है, ठीक इसी प्रकार हर असफलता का अपना एक महत्व है, हर असफलता एक अध्याय है जिसे हमें समझना होता है सफल होने के लिए। 


अब प्रश्न यह है कि आखिर कब तक और कितना प्रतीक्षा करे और कब तक कोशिश करते रहे है? तो इसका एक ही जबाव है कि यदि आप सच में सफ़लता चाहते है तो आपको तब तक कोशिश करनी चाहिए जब तक कि आप सफल नहीं हो जाते,  दूसरा कोई विकल्प ही नहीं है। 

अब बात है धैर्य और संयम की है, तो इस कविता का यही तो तात्पर्य है कि बिना धैर्य और संयम के सफलता पाना बहुत ही कठिन है। क्योंकी जब आप सफलता के मार्ग पे आगे बढ़ते है तो आपको कई सारी कठिनाइयां मिलती है, कई बार विपरीत परिस्थितियों से भी आपको गुजरना पड़ता है, जो कि बिना धैर्य और संयम के संभव ही नहीं है कि आप इनको पार कर पाए।

धैर्य और संयम बनाए रखने के लिए आप ऐसे ही प्रेरणादायक कविताएं या प्रेरणा से भरी किताब पढ़ सकते है, जिससे आपका धैर्य भी बना रहे और आगे बढ़ते रहने की शक्ति भी मिलती रहे।


कोई शक नहीं इन राहों पर
कई मुश्किलों को मात दिया।
संघर्षों से लड़ बैठा 
अभ्यास तूने दिन रात किया।

जीत के जश्न मनाने को
खुद को तैयार तो करले और।
वो पल खुशी के आएंगे
दो पल इंतेज़ार तो करले और।

अपने आप से पूछिए की आपने कब कब उत्तम कार्य किया हैं जिससे आपको अपने आप पर गर्व हुआ हो या यूँ कहे की याद कीजिये कितनी बार आपने मुश्किलों को मात देकर आगे बढ़े हैं और जीत हासिल किया हैं। दिमाग पर जोर देकर याद कीजिये। ऐसे कई क्षण होंगे जब आपने अदभुत तरीके से कार्य करते हुए बाधाओं को पार किया हैं। कितनी बार संघर्षो से लड़कर और उन्हें हराकर आप आगे बढ़े हैं। ये भी याद कीजिये की इसके लिए आपने मेहनत और अभ्यास कितना किया हैं।

पर क्या अब इन्हे व्यर्थ होने देंगे, ये सारी मेहनत, सारे अभ्यास, सारे अदभुत काम बेकार हो जायेंगे और वो भी सिर्फ धैर्य का साथ छोड़ने से। हर सफलता के लिए एक निश्चित परिश्रम और तैयारी  की जरुरत होती हैं। शायद अभी आपकी तैयारी और परिश्रम में थोड़ी सी कमी रह गई हो।


जब भी धैर्य टूटने लगे आप कुछ पल के लिए शांत जो जाइये, काम से ध्यान हटाकर कही और लगाइये, अपने ऊपर से काम और असफलता का प्रेशर हट जाने दीजिये। इसके लिए आप पार्टी कर सकते हैं, कही घूमने जा सकते हैं, मैडिटेशन कर सकते हैं जिससे प्रेशर खत्म हो जाये। उसके बाद आप मूल्यांकन कीजिये की कहाँ कमी रह गई हैं। उस कमी को दूर कीजिये और फिर से प्रयत्न कीजिये जैसे शेरनी दो कदम पीछे हटकर फिर हमला करती हैं। तब निश्चित ही सफलता आपको कदमों में होगी।

उम्मीद करता हूं कि इस प्रेरणादायक कविता  से आपको काफी प्रेरणा मिली होगी ऐसे ही और प्रेरणादायक कविताएं पढ़ने के लिए आप मेरी वेबसाइट   www.powerfulpoetries.com  पर जा सकते है जहां से आप आपने आप को लगातार Motivate कर सकते है।


Thank you for reading this

Hindi Motivational Poem

"This is not only a Hindi Motivational Poem but also a Life Changing Poem."


Comments

  1. एक छोटा बदलाओ बड़ी कामियाबी का हिस्सा बनता हैं। Well done

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंजिल तक पहुंचने के लिए पहला कदम उठाना बहोत जरुरी हैं।

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

हौसला एवं उत्साह बढ़ाने वाली कविता। जज्बे से वक्त को बदलने की हमें आदत है।

हौसला बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता। हार कभी न होती है।

आत्मविश्वास बढ़ाने वाली हिन्दी प्रेरक कविता। है यकीन खुद पे जिन्हें ।

हिम्मत बढ़ाने वाली हिंदी प्रेरक कविता। कश्ती अगर हो छोटी तो।

उत्साह बढ़ाने वाली प्रेरणादायक कविता ।दिल में और जीने की अरमान अभी तो बाकी है।

जीवन बदलने वाली हिंदी प्रेरक कविता। मेहनत व्यर्थ न जाती है।